दिन और दुखियो के तुम हो सहारे (Deen aur dukhiyon ke tum ho sahaare)

दिन और दुखियो के तुम हो सहारे (Deen aur dukhiyon ke tum ho sahaare)

इस Post में आपको दिन और दुखियो के तुम हो सहारे (Deen aur dukhiyon ke tum ho sahaare) का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि दिन और दुखियो के तुम हो सहारे (Deen aur dukhiyon ke tum ho sahaare) आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

दिन और दुखियो के तुम हो सहारे

दिन और दुखियो के तुम हो सहारे
सदा अपने भक्तो को भोले उबारे
भसम भभूति तन पर राजे
नाग गले में डाले
पिते हो नित भांग के भर भर
भोले जी तुम प्यालेए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
अरे भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
हे काले काले रे काले काले
हे काले काले रे काले काले
ए हो काले काले रे काले काले
हे काले काले रे काले काले
काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
भोला काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो लेलो
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो
हिरा मोती सोना चाँदी
सब देने वाला
भोले दानी भोले दानी

ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
हे काले काले रे काले काले
हे काले काले रे काले काले
ए हो काले काले रे काले काले
हे काले काले रे काले काले
काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
भोला काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो लेलो
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो
हिरा मोती सोना चाँदी
सब देने वाला
भोले दानी भोले दानी

भोले बाबा जी के सब है पुजारी
नर हो या नारी ये सब संसारी
दर के भिखारी रे
भोले बाबा जी के सब है पुजारी
नर हो या नारी ये सब संसारी
दर के भिखारी रे
सारे भक्तो के हितकारी
सारे भक्तो के हितकारी
त्रिशूल धारी भोले भंडारी
नंदी वाले नाग धारि
आहा त्रिशूल धारी भोले भंडारी
नंदी वाले नाग धारि
आहे अब तक किसी को भी करके निराशा
अब तक किसी को भी करके निराशा
उसने कभी अपने दर से ना टाला
भोले दानी भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी
ए भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
हाँ भोले दानी भोले दानी
भोले निराला
पिए सदा भंगिया का प्याला
हय रे काले काले रे काले काले
हे काले काले रे काले काले
ए काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
भोला काले काले सर्पो की माला को
अपने गले में है डाला
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो लेलो
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो
जो चाहे मांगो जो चाहे लेलो
हिरा मोती सोना चाँदी
सब देने वाला
भोले दानी भोले दानी

अरे सबसे बड़े जग में है वही ज्ञानी
भोले वरदानी त्रिशूल पाणी
शिव औघड़ दानी को
सबसे बड़े जग में है वही ज्ञानी
भोले वरदानी त्रिशूल पाणी
शिव औघड़ दानी को
गाते है सब जिनकी वाणी
गाते है सब जिनकी वाणी
ये जग के प्राणी पंडित और ज्ञानी
राजा रानी जोगी ध्यानी
हाँ ये जग के प्राणी पंडित और ज्ञानी
राजा रानी जोगी ध्यानी
अरे जपता सदा है लख्खा जिनकी माला
जपता सदा शर्मा है जिनकी माला
कहलाता है जो शिव डमरू वाला
भोले दानी भोले दानी
ए भोले दानी रे भोले दानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *