कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना (Kabhi fursat ho to jagdambe nirdhan ke ghar bhi aa jaana)

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना (Kabhi fursat ho to jagdambe nirdhan ke ghar bhi aa jaana)

इस Post में आपको कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना (Kabhi fursat ho to jagdambe nirdhan ke ghar bhi aa jaana) का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना (Kabhi fursat ho to jagdambe nirdhan ke ghar bhi aa jaana) आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना

 

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना |
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||

ना छत्र  बना सका सोने का, ना चुनरी घर मेरे टारों जड़ी |
ना पेडे बर्फी मेवा है माँ, बस श्रद्धा है नैन बिछाए खड़े ||
इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ, इस विनती को ना ठुकरा जाना |
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||

जिस घर के दिए मे तेल नहीं, वहां जोत जगाओं कैसे |
मेरा खुद ही बिशोना डरती माँ, तेरी चोंकी लगाऊं मै कैसे ||
जहाँ मै बैठा वही बैठ के माँ, बच्चों का दिल बहला जाना |
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||

तू भाग्य बनाने वाली है, माँ मै तकदीर का मारा हूँ |
हे दाती संभाल भिकारी को, आखिर तेरी आँख का तारा हूँ ||
मै दोषी तू निर्दोष है माँ, मेरे दोषों को तूं भुला जाना |
जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||

3 thoughts on “कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना (Kabhi fursat ho to jagdambe nirdhan ke ghar bhi aa jaana)

  1. Wow, superb blog structure! How lengthy have you been blogging for?
    you made blogging look easy. The entire glance of your site is excellent,
    as smartly as the content material! You can see similar here
    sklep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *