कृष्ण भगवान की कथा: जानिए इस अद्भुत कथा के बारे में

कृष्ण भगवान की कथा: जानिए इस अद्भुत कथा के बारे में

इस Post में आपको कृष्ण भगवान की कथा: जानिए इस अद्भुत कथा के बारे में का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि कृष्ण भगवान की कथा: जानिए इस अद्भुत कथा के बारे में आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

कृष्ण भगवान की कथा -Krishna Bhagwan ki Katha

कृष्ण भगवान की कथा एक आध्यात्मिक बात है जो हिन्दू धर्म के अनुयायियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इस कथा में कृष्ण भगवान के जीवन के विभिन्न पहलुओं का वर्णन किया गया है। इसमें उनके बाल्यकाल से लेकर उनके विवाह तक के घटनाक्रम शामिल हैं।

कृष्ण भगवान की कथा में उनके जीवन के अनेक महत्वपूर्ण संदर्भ दिए गए हैं जो आध्यात्मिक जीवन में महत्वपूर्ण होते हैं। इस कथा में उनके दूसरे विश्वरूप और भगवद गीता के उपदेशों का भी वर्णन है। इसके अलावा, कृष्ण भगवान की कथा में उनके लीलाओं और उनके भक्तों के अनुभवों का भी वर्णन है।

श्री कृष्ण की जन्म कथा – Shri Krishna Janma Katha

श्री कृष्ण की जन्म कथा भगवान विष्णु के आठवें अवतार के रूप में जानी जाती है। इसके अनुसार, श्री कृष्ण का जन्म संसार के अत्यंत पवित्र स्थान मथुरा में हुआ था।

श्री कृष्ण के माता-पिता वासुदेव और देवकी थे। उनके जन्म से पहले, उनकी मां देवकी के भाई कंस ने एक भविष्यवाणी सुनी थी कि उसके द्वारा मारे जाने वाला बच्चा उसकी बहन देवकी का होगा। इसलिए, कंस ने देवकी और उसके पति वासुदेव को गिरफ्तार कर लिया और उन्हें कैद में रखा दिया।

श्री कृष्ण ने अपने जन्म के समय उनके अभिमानी चाचा कंस का वध किया था। इसके बाद, उन्होंने वृंदावन में अपना बचपन बिताया और वहां गोपियों और गोपों के साथ खेलते थे।

श्री कृष्ण के बाल लीला – Shri Krishna Bal Leela

श्री कृष्ण भगवान की बाल लीला उनके जीवन का सबसे रोमांचक और मनोरंजक हिस्सा है। उनके बचपन की कहानियां लोगों को बहुत प्रेरणा देती हैं। श्री कृष्ण के जन्म के समय से लेकर उनके बचपन की यादें लोगों के दिलों में बसी हुई हैं।

श्री कृष्ण के बचपन की कहानियों में उनके चंद्रवटियों का जीवन, मक्खन चोरी, गोपियों के साथ नाचना और उनकी युद्ध खेलने की कहानियां शामिल हैं। उनके बचपन की यादें लोगों को दिलचस्प लगती हैं और उन्हें श्री कृष्ण के प्रति अधिक आकर्षित करती हैं।

श्री कृष्ण की बाल लीला में उनके अद्भुत लीलाएं शामिल हैं जो लोगों के दिलों को छू जाती हैं। उनकी माखन चोरी की कहानी बहुत प्रसिद्ध है। उन्होंने अपनी चंद्रवटियों के साथ नाचा और गोपियों के साथ खेला। श्री कृष्ण के बचपन की कहानियां लोगों को बहुत प्रेरणा देती हैं।

श्री कृष्ण के युवावस्था और लीलाएं- Shree Krishna Ki Yuvaavastha aur Leelaen

श्री कृष्ण के युवावस्था और उनकी लीलाएं भगवान के जीवन का सबसे मनोहारी अध्याय है। वे गोकुल में अपने बाल साथियों के साथ नटखट खेलते थे। उनकी नाटकीय और अद्भुत लीलाएं उनके बाल्य और किशोर अवस्था में हुई थीं।

श्री कृष्ण के युवावस्था में, उन्होंने वृंदावन छोड़ दिया था और मथुरा चले गए थे। वहां उन्होंने कंस जैसे दुष्ट राजा से लड़ाई की थी और उन्होंने अपने दौड़ के दौरान उनके भक्तों के साथ भी खेला था। श्री कृष्ण ने अपने युवावस्था में भी अनेक लीलाएं की थीं, जो भक्तों के दिलों में उनकी यादगार बन गई हैं।

श्री कृष्ण की युवावस्था में उनकी उमड़ती हुई शक्ति, उनकी खुशमिजाजी और उनकी खिलखिलाहट उन्हें जीवन का अनुभव करने का एक सौभाग्य देती है।

श्री कृष्ण के विवाह और पत्नी कथा -Shri Krishna ka Vivaah aur Patnee Katha

श्री कृष्ण जन्म से ही एक अनोखे व्यक्तित्व के मालिक थे। उनकी बाल्यकाल की कथाएं लोगों को अद्भुत लगती थीं। श्री कृष्ण ने अपने जीवन के विभिन्न अवसरों पर अपनी अद्भुत कलाओं का प्रदर्शन किया।

श्री कृष्ण के विवाह की कथा भी उनके जीवन का एक अहम अंग है। श्री कृष्ण के विवाह की घटना में उनकी अनेक पत्नियों की भी उपस्थिति थी। श्री कृष्ण के विवाह की कथा भगवान के भक्तों के बीच बहुत लोकप्रिय है।

श्री कृष्ण का विवाह रुक्मिणी से हुआ था। रुक्मिणी राजा भीष्मक की बेटी थीं। श्री कृष्ण ने रुक्मिणी को बगीचे में भेजा था। रुक्मिणी ने श्री कृष्ण के साथ भाग जाने का फैसला किया था। श्री कृष्ण ने रुक्मिणी को अपनी पत्नी बनाया।

श्री कृष्ण के जीवन के महत्वपूर्ण घटनाक्रम Shree Krishna ke Jeevan Kee Mahatvapoorn Ghatanaye

श्री कृष्ण भगवान के जीवन में कई महत्वपूर्ण घटनाक्रम हुए जो उनके चरित्र और व्यक्तित्व को बेहतर ढंग से समझने में मदद करते हैं। इनमें से कुछ निम्नलिखित हैं।

  • श्री कृष्ण का जन्म
  • माखन चोरी
  • कालिंदी नदी पार करना
  • गोपियों को रास लीला दिखाना
  • कंस वध
  • गीतों का उपदेश देना
  • अर्जुन को भगवद गीता का उपदेश देना

    कृष्ण जी के भजन मधुर भजन

श्री कृष्ण का जन्म वृष्णि वंश के राजा वसुदेव और उनकी पत्नी देवकी के घर हुआ था। उनका जन्म जन्माष्टमी के दिन हुआ था। माखन चोरी के बारे में भी बहुत सुना जाता है। श्री कृष्ण बचपन से ही एक शरारती बच्चे थे। वे अपनी माँ यशोदा के साथ रहते थे।

श्री कृष्ण के जीवन में गोपियों के साथ रास लीला दिखाना भी एक महत्वपूर्ण घटना है। इस घटना में श्री कृष्ण ने गोपियों के साथ नृत्य किया था। यह घटना उनकी अनंत लीलाओं में से एक है।

श्री कृष्ण ने कंस वध करके माता और पिता का सम्मान बचाया था। उन्होंने अर्जुन को भगवद गीता का उपदेश दिया था जो आज भी लोगों को जीवन के मार्गदर्शन के लिए प्रेरित करता है।

श्री कृष्ण की मृत्यु कथा – Shree Krishna ki Mrityu Katha

श्री कृष्ण की मृत्यु कथा भगवान के जीवन के एक महत्वपूर्ण घटना है। श्री कृष्ण के जीवन का अंत उनके द्वारा उठाये गए एक बाण से हुआ था। श्री कृष्ण वृष्णियों के साथ खेलते हुए एक दिन एक तीर उनके पैर में लग गया।

श्री कृष्ण को बहुत दर्द हुआ और उन्होंने अपने पैर को एक चौड़े वृक्ष के नीचे रख दिया। वह उस वृक्ष के ऊपर चढ़ गए ताकि उन्हें अपने दोस्तों को बता सकें कि उनके पैर में तीर लग गया है।

श्री कृष्ण ने अपने दोस्तों से कहा कि उन्हें अपने पैर से तीर निकालने की जरूरत है। उनके दोस्तों ने उन्हें दवा दी, लेकिन यह उनके दर्द को नहीं कम कर सकी।

श्री कृष्ण की मृत्यु कथा इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि उसने अपने जीवन के अंत में अपने भक्तों को उनकी भूमिका याद दिलाई। उन्होंने यह समझाया कि हम सभी इस धरती पर अपनी भूमिका निभा रहे हैं और किसी भी हालत में अपने कर्तव्यों से पल्ला झाड़ना नहीं चाहिए।

संक्षिप्त समाप्ति -Sankshipteekaran Samaapti

इस लेख का अंत आ गया है। इस लेख में कृष्ण भगवान की कथा के बारे में विस्तार से वर्णन किया गया है। इस लेख से आपको कृष्ण भगवान की उपासना का महत्त्व समझ में आया होगा।

कृष्ण भगवान की कथा एक बहुत ही रोमांचक और शिक्षाप्रद कथा है। इस कथा से हमें यह सीख मिलती है कि अगर हम भगवान के नाम पर उनकी उपासना करें और उनके भक्त बनें, तो हमारी जिंदगी में सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है।

इस कथा को सुनने से हमें यह भी पता चलता है कि कृष्ण भगवान एक ऐसे देवता हैं जो हमेशा हमारे साथ होते हैं और हमें सहायता करते हैं। इसलिए, भगवान के नाम पर उनकी उपासना करना हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *