बैसाखी त्योहार का महत्व कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है ?(Baisakhi Tyohar Kaha Aur Kis Parkar Mnaya Jata Hai )

बैसाखी त्योहार का महत्व कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है ?(Baisakhi Tyohar Kaha Aur Kis Parkar Mnaya Jata Hai )

इस Post में आपको बैसाखी त्योहार का महत्व कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है ?(Baisakhi Tyohar Kaha Aur Kis Parkar Mnaya Jata Hai ) का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि बैसाखी त्योहार का महत्व कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है ?(Baisakhi Tyohar Kaha Aur Kis Parkar Mnaya Jata Hai ) आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

बैसाखी त्योहार का महत्व ,कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है? आईये जानते हैं बैसाखी भारतीय संस्कृति का एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जिसे हम प्रतिवर्ष वसंत ऋतु में मनाते हैं। इसे सिख धर्म का प्रमुख त्योहार माना जाता है, जो पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, और भारत के उत्तरी क्षेत्रों में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस त्योहार का महत्व और इसे किस प्रकार मनाया जाता है, वह हमारी अगली पैराग्राफ्स में देखेंगे।

बैसाखी का उत्सव सिखों के नव वर्ष के उपलक्ष्य में मनाया जाता है और इस दिन गुरु गोबिंद सिंह जी के खालसा पंथ की स्थापना की जयंती भी मनाई जाती है। फसल की कटाई शुरू होने की सफलता के रूप में भी मनाया जाता है, यह त्योहार किसानों के लिए खासा महत्वपूर्ण होता है। सिखों के अलावा, इसे बैसाखी के नाम से वसंत उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है।

बैसाखी का त्योहार नृत्य, गाने, भोजन, और धार्मिक कार्यक्रमों से मनाया जाता है। इस दिन लोग गुरुद्वारों और मंदिरों में जाकर पूजा-अर्चना करते हैं। हरि-धरि धरती को हरियाली की किरणों से भर देने वाला यह त्योहार वसंत की खुशियों और सफलताओं की सामूहिक भविष्य प्राति प्रदर्शित करता है।

 

बैसाखी त्योहार का महत्व – Baisakhi Tyohar Ka Mahatav

बैसाखी एक महत्वपूर्ण भारतीय त्योहार है, जिसे विभिन्न प्रकार से और विभिन्न स्थानों पर मनाया जाता है। इस त्योहार को प्रतिवर्ष 13 अप्रैल को मनाया जाता है। वैशाख के महीने के पहले दिन पर मनाया जाने वाला यह त्योहार, खासकर पंजाब और हरियाणा में बहुत ज्यादा महत्व रखता है।

बैसाखी खेतिहर संगठनों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इस दिन सरसों की फसल की कटाई की जाती है। इस त्योहार का महत्व यह भी है कि इस दिन सिख समुदाय में गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा खालसा पंथ की स्थापना की गई थी।

बैसाखी त्योहार के दौरान लोग नृत्य, गाने और अन्य सांस्कृतिक कैरहों के माध्यम से खुशी मनाते हैं। फसल काटने की खुशी में लोग गिद्धा और भंगड़ा नाच करते हैं। इसके अलावा, लोग अपने अच्छे स्वास्थ्य और कृषि के भरपूर उपज के लिए ईश्वर का आभारी होते हैं।

बैसाखी के त्योहार की मान्यता और महत्व के कारण इसे सभी समुदायों और धर्मों के लोगों द्वारा मनाया जाता है।

बैसाखी की उत्पत्ति

ऐतिहासिक प्रिस्थभूमि

बैसाखी त्योहार का महत्व कहाँ और किस प्रकार मनाया जाता है?  हम यह जानते हैं कि बैसाखी का त्योहार भारत के पंजाब प्रांत से शुरू हुआ है। इस त्योहार को प्रायः 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता है। इस त्योहार की मूल धारा किसानों की फसल के कटाई शुरू होने की खुशी है। वैसाखी के पर्व को भारत के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है, लेकिन सबसे ज्यादा धूमधाम से इसे पंजाब और हरियाणा के लोग मनाते हैं।

बैसाखी की ऐतिहासिक प्रिस्थभूमि के साथ-साथ, इस उत्सव के महत्व को जानने के लिए इसके धार्मिक और सांस्कृतिक पहलुओं को भी समझना महत्वपूर्ण है।

धार्मिक महत्व

सिख धर्म के अनुयायियों के लिए, बैसाखी सिख नव वर्ष की शुरुआत के साथ-साथ सिख धर्म की स्थापना का दिन भी है। इसी दिन, पंजाब के गुरु गोबिंद सिंह ने सिख धर्म की नई पूर्णता और पहचान की शुरुआत की, जिसे खालसा पंथ कहा जाता है। इस खास दिन के अवसर पर गुरद्वारों में विशेष कीर्तन, कथा और पठण के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

इसके अलावा, भारत के अन्य धार्मिक समुदायों के लिए भी बैसाखी का त्योहार कुछ न कुछ धार्मिक महत्व रखता है।

बैसाखी मनाने की प्रक्रिया- Baisakhi Tyohar Manane Ki Prakriya

बैसाखी त्योहार गुरुद्वारा पर जाने के रिवाज और खेती-बाड़ी संबंधी उत्सव के साथ मनाया जाता है। इस धार्मिक और सांस्कृतिक उत्सव में हम सभी खुशी का अनुभव करते हैं।

गुरुद्वारा पर जाने का रिवाज

बैसाखी के दिन हम गुरुद्वारा जाते हैं, जहां इस दिव्य त्योहार का महत्व समझाया जाता है। गुरुद्वारे में श्री गुरु ग्रन्थ साहिब का पाठ सुबह के समय से शुरू होता है, जो शाम तक चलता रहता है। सभी लोग गुरुद्वारा पहुंचकर मठतेक लेते हैं और महाप्रसाद प्राप्त करते हैं।

गुरुद्वारा विजिट के बाद, लोग अपने दोस्तों और परिवार के साथ मिलकर घरेलू स्तर पर इस त्योहार का आयोजन कर लेते हैं। भंगड़ा, गिद्धा जैसे लोक नृत्यों के साथ हर कोई आनंद लेता है।

खेती-बाड़ी संबंधी उत्सव

बैसाखी के दिन किसान अपनी फसल की कटाई शुरू करते हैं, इसलिए यह उत्सव खेती-बाड़ी संबंधित मनाया जाता है। खेतों में किसान अपनी फसलों को काटते हुए फूलों और गुलाल से सजा कर हर्ष-उल्लास में बैसाखी का जश्न मनाते हैं।

इसे भी पढ़ें: सनातन हिन्दू धर्म क्या है (sanatan hindu dharm kya hai)

बैसाखी का मनाना विभिन्न भागों में

हम यहाँ पर भारत के कुछ प्रमुख राज्यों में बैसाखी त्योहार की मनाने की प्रक्रिया को समझाने वाले हैं और उससे जुडी कुछ ख़ास जानकारी देंगे।

पंजाब और हरियाणा

बैसाखी का त्योहार सबसे ज्यादा पंजाब और हरियाणा के लोगों में प्रमुखता से मनाया जाता है। इस त्योहार को किसान फसल काटने की खुशी में मनाते हैं। लोग इस दिन गुरुद्वारों में जा कर प्रार्थना और कीर्तन करते हैं। नगर कीर्तनों और डांस प्रदर्शन भी यहाँ की ख़ास पहचान है।

दिल्ली

दिल्ली में बैसाखी का त्योहार गुरुद्वारों में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। लोग अपने परिवार के साथ गुरुद्वारे में जाते हैं और वहाँ पर सेवा और लंगर का आयोजन करते हैं। दिल्ली के मोटी बाग़, मजनू टीला और शेखपुरा गांव में बैसाखी को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है।

राजस्थान

राजस्थान में भी बैसाखी का त्योहार विविध धार्मिक और सामाजिक कार्यों के साथ मनाया जाता है। इस दिन लोग नदियों और तालाबों में स्नान के लिए जाते हैं और उच्च भवनों पर ध्वजा का आरोहण करते हैं।

 

बैसाखी का खाद्य और सांगीतिक पहलू

बैसाखी त्योहार कई प्रकार से मनाया जाता है। इस त्योहार में हम खाद्य सामग्री की भरमार और सांगीतिक रंगों का आनंद लेते हैं। इस धारा में, हम खाद्य पदार्थों, डांस और संगीत के महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा करेंगे।

खाद्य पदार्थ

बैसाखी के त्योहार में लोग विभिन्न प्रकार की रसोई बनाते हैं। स्थानीय खानों में महसूस होती है पंजाब की मिट्टी की महक। विशेष कुछ खाद्य पदार्थ इस त्योहार से जुड़े हुए होते हैं और परम्परागत तौर पर बनाए जाते हैं। उदाहरण के लिए:

  • सरणजामी कढ़ी
  • चोले भटूरे
  • अमृतसरी कुलचे
  • पिंडी चने
  • मक्की की रोटी और सरसों का साग

डांस और संगीत

बैसाखी त्योहार में संगीत का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है, जिसके बिना यह सम्पूर्ण होता ही नहीं। पंजाबी गाने जीवंतता से भरे होते हैं, और लोग उत्साह से उनके साथ नाचते हैं।

गिद्धा और भंगड़ा परम्परागत पंजाबी डांस प्रदर्शन हैं जो लोगों को आपस में एकजूट करते हैं। धोलक या ढोल के ठाहाकों के साथ, नर और नारी समुदायी नृत्य करते हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *