मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा (Main To Aata Raha Tere Dar Pe Sada)

मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा  (Main To Aata Raha Tere Dar Pe Sada)

इस Post में आपको मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा (Main To Aata Raha Tere Dar Pe Sada) का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा (Main To Aata Raha Tere Dar Pe Sada) आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा

 

मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा,
मैया तुझको बुलाने को ||
आओगी कब भला मेरे घर पे बता,
घर को मंदिर बनाने को ||

मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा,
मैया तुझको बुलाने को ||
आओगी कब भला मेरे घर पे बता,
घर को मंदिर बनाने को ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

नंगे पेरो से चल चल के माँ मैं,
तेरे दरबार पे हर बार आया ||
छाले पड़ जाये पैरो में फिर भी,
दर्द सह सह के भी मुस्काया ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

तू ही भूले मुझे मैं न भूलू तुझे,
चाहे भलु ज़माने को ||
मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा,
मैया तुझको बुलाने को ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

तेरी मूरत तो हर बार देखी,
अपनी सूरत तो आके दिखाना ||
भोग तेरा लगाया तेरा सदा माँ,
आके घर पे तू खुद भोग खाना ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

मैं खिलाऊ तुझे तू खिलाये मुझे,
ऐसा जलवा दिखाने को ||
मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा,
मैया तुझको बुलाने को ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

माना मैंने के मैं हूँ भिखारी,
तीनो लोको की तुम हो हो दाता ||
दीन से क्या निभाती नहीं हो,
माँ बेटे का है जो ये नाता ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

माना कंगाल हूँ पर तेरा लाल हूँ
आजा इतना बताने को ||
मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा
मैया तुझको बुलाने को ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

राह देखूंगा मैं माता रानी,
जब तलक सांस मेरी चलेगी ||
जो अगर तुम ना आई भवानी,
दुनिया क्या क्या ना जाने कहेगी ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

पूरी कर आस को आँखों की प्यास,
अम्बे आजा भुजाने को ||
आओगी कब भला मेरे घर पे बता,
घर को मंदिर बनाने को ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

जो समझती मुझे लाल अपना,
फिर मेरा घर क्या तेरा नहीं है ||
दूर कितना है तेरे लिए माँ,
फिर क्यूँ लगता माँ फेरा नहीं है ||
|| मैं तो आता रहा तेरे दर पे सदा ||

मैं तो मजबूर हूँ रहता मैं दूर हूँ,
फिर भी आऊं मनाने को ||
मैया तुझको बुलाने को,
मैया तुझको बुलाने को ||

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *