पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा (Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayeg Lyrics)

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा (Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayeg Lyrics)

इस Post में आपको पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा (Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayeg Lyrics) का हिंदी में Lyrics दिया जा रहा है और उम्मीद करता हूँ कि पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा (Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayeg Lyrics) आपके लिए जरूर उपयोगी साबित होगा | BhajanRas Blog पे आपको सभी देवी देवताओ की आरतिया,चालीसा, व्रत कथा, नए पुराने भजन, प्रसिद्ध भजन और कथाये ,पूजन विधि, उनका महत्व, उनकी व्रत कथाये BhajanRas.com पे आप हिंदी में Lyrics पढ़ सकते हो।

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार…
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार …
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

सांस रुकी तेरे दर्शन को, न दुनिया में मेरा लगता है
शबरी बांके बैठा हूं मेरा श्री राम में अटका मन
बेकार मेरे दिल को मैं कितना भी समझा लूं
राम दरस के बाद दिल चोरेगा ये धड़कन
काले युग प्राणि हूं पर जीता हूं मैं त्रेता युग

कर्ता हूं महसुस पलों को माना न वो देखा युग
देगा युग कलि का ये पापोन के उपहार का
चांद मेरा पर गाने का हर प्राण को देगा सुख
हरि कथा का वक्त हूं मैं, राम भजन की आदत

राम आभारी शायर, मिल जो राही है दावत
हरि कथा सुना के मैं चोर तुम्हें कल जाउंगा
बाद मेरे न गिरने न देना हरि कथा विरासतत

पाने को दीदार प्रभु के नैन बड़े ये तरस है
जान सके ना कोई वेदना रातों को ये बरसे है
किसे पता किस मौके पे, किस भूमि पे, किस कोने में
मेले में या वीराने में श्री हरि हमें दर्शन दे

पता नहीं किस रूप में आकार …
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा
पता नहीं किस रूप में आकार …
निर्मल मन के दर्पण में वह राम के दर्शन पाएगा

पता नहीं किस रूप में आकार
इंतजार में बैठा हूं कब बीतेगा ये काला युग
बीतेगी ये पीडा और भारी दिल के सारे दुख
मिलने को हूं बेकार पर पाप का मैं भागी भी

नाज़रीन मेरी आगे तेरे श्री हरि जाएगी झुक
राम नाम से जुड़े हैं ऐसे खुद से भी ना मिल पाए
कोई ना जाने किस चेहरे में राम हमें कल मिल जाए
वैसे तो मेरे दिल में हो पर आंखें प्यासी दर्शन की

शाम, सवेरे सारे मौसम राम गीत ही दिल गए
रघुवीर ये वींटी है तुम दूर करो अंधेरों को
दूर करो परेशानी के सारे भुखे शेरों को
शबरी बांके बैठा पर काले युग का प्राण हूं

मैं जूता भी ना कर दूंगा पापी मुह से बेरो को
बन चुका बैरागी दिल, नाम तेरा ही लेता है
शायर अपनी सांसें ये राम सिया को देता है

और नहीं इच्छा है अब जीने की मेरी राम यहां
बाद मुझे मेरी मौत के बस ले जाना तुम त्रेता में
शायद तुम्हे यह भी अच्छा लगे

 

 

Song : Pata Nhi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayega
Singer : Prakash Gandhi
Music: Gandhi Brothers (Prakash-Subhash Gandhi)
Lyrics: Traditional
Music Lable: Power Music Company

9 thoughts on “पता नहीं किस रूप में आकार नारायण मिल जाएगा (Pata Nahi Kis Roop Me Aakar Narayan Mil Jayeg Lyrics)

  1. Wow, incredible weblog structure! How lengthy have you ever been blogging for?
    you make running a blog glance easy. The whole look of your web site is magnificent, let alone the content
    material! You can see similar here sklep internetowy

  2. What i don’t understood is if truth be told how you are now not really much more well-appreciated than you might be right now. You’re very intelligent. You understand thus significantly relating to this topic, made me in my opinion consider it from a lot of numerous angles. Its like men and women don’t seem to be fascinated except it’s something to do with Girl gaga! Your individual stuffs nice. Always deal with it up!

  3. Hello, you used to write excellent, but the last few posts have been kinda boring?K I miss your super writings. Past several posts are just a bit out of track! come on!

  4. Thanks for the sensible critique. Me and my neighbor were just preparing to do some research on this. We got a grab a book from our area library but I think I learned more clear from this post. I’m very glad to see such fantastic information being shared freely out there.

  5. I’ve been absent for some time, but now I remember why I used to love this website. Thank you, I?¦ll try and check back more frequently. How frequently you update your web site?

  6. Your place is valueble for me. Thanks!…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *